देहरादून DM बनी एक पीड़ित माँ के लिए देवदूत,ममता के आँचल से दूर हुए मासूम को माँ से मिला ख़ुशी लौटाई.

देहरादून जिलाधिकारी सोनिका द्वारा एक पीड़ित माँ को ममता के मामलें में न्याय दिलाने का सराहनीय कदम सामने आया है.जीहां जन्म देने वाली माँ के ममता भरे आंचल से दूर हुए एक 2 साल के मासूम को उसकी माँ से मिलाने का नेक काम जिलाधिकारी सोनिका के प्रयासों से पूरा हुआ है.ऐसे में अपने बच्चे को पाकर उस मां ने तहेदिल से जिलाधकारी का शुक्रिया अदा करते हुए फूलों का गुलदस्ता और मासूम बच्चे ने डीएम को Pen(कलम) भेंटकर आभार व्यक्त किया.

 मासूम बच्चे की तडफ़ देख जिलाधिकारी ने तत्काल लिया देवदूत वाला एक्शन

दरसल प्रत्येक सोमवार होने वाली जनसुनवाई कार्यक्रम के अंतर्गत गत-सप्ताह पहले रायवाला की हरिपुरकला निवासी पीड़ित महिला खुशबू अपनी शिकायत लेकर DM के समक्ष पहुंची थी.खुशबू ने जनसुनवाई के दौरान DM को बताया कि उसके यूपी ( मुजफ्फरनगर)ससुराल वालों ने बीते फरवरी माह में उसको मारपीट कर 2 साल के उसके मासूम बच्चे से जुदा कर घर से निकाल दिया.. लाख मान मनोव्वल के बाद भी जब बात नहीं बनी,तो ऐसे में शिकायत के आधार पर रायवाला पुलिस द्वारा दोनों पक्षों की काउंन्सलिंग करायी गई.हर काउंसलिंग में खुशबू ने अपने बच्चे को वापस दिलाने का मांग की. किन्तु ससुराल वालों ने बच्चे को वापस नहीं दिया.ऐसे में थक हार कर पीड़ित खुशबू की एक परिचित ने उसको जिलाधिकारी की अध्यक्षता में आयोजित होने वाली जनसुनवाई में फरियाद ले जाने को कहा.तो परिचित की बात मानते हुए खुशबू ने जनसुनवाई दरबार में पहुंचकर  जिलाधिकारी (देहरादून) को अपनी ममता से भरी पीड़ा को बया किया.ऐसे में  जन्म देने वाली मासूम बच्चे  की तडफ़ देखते हुए तत्काल ही जिलाधिकारी सोनिका ने 28 मार्च को रेखीय विभाग की ओर से पुलिस को पत्र प्रेषित कर बच्चा वापस दिलाए जाने के संबंध में कार्यवाही करने के निर्देश दिए. इसके बाद उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर रेखीय विभाग से समन्वय करते हुए उसी दिवस में कुछ औपचारिकताओं के बाद खुशबू शर्मा को उसका बच्चा वापस दिलाया गया. बस फिर क्या था..अपने  मासूम बच्चे को पाकर खुशबू के आंचल में ममता की खुशियां भर गई. इस नेक कार्य में इतनी बड़ी मद्दत होने के उपरांत रायवाला (हरिपुरकला) निवासी खुशबू ने सोमवार जनसुनवाई कार्यक्रम में पहुंचकर जिलाधिकारी सोनिका का तहेदिल से शुक्रिया अदा करते हुए राज्य सरकार सहित उन संबंधित अधिकारियों का भी धन्यवाद कहते हुए आभार प्रकट किया. जिन्होंने बच्चे को वापस दिलाने में मदद की. वही खुशबू ने अपने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि जिलाधिकारी के आदेश से उनको बच्चा मिल गया, मानो उनको जिंदगी में सब कुछ मिल गया.

यह भी पढ़ें 👉  पटवारी पेपर लीक प्रकरण में हरिद्वार SIT ने 50 हजार के इनामी को दबोचा..गिरफ्तार अभियुक्त- वन दरोगा और JE पेपर लीक का भी आरोपी..
बाइट: खुशबू और जिलाधिकारी..

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें