फ़र्जी कागज़ तैयार कर करोडों संपत्ति बेचने वाले गिरोह का मास्टरमाइंड गिरफ्तार,कांग्रेस नेता सहित लगभग एक दर्जन आरोपी रडार पर,इस कारण अब ये बेशकीमती  प्रॉपर्टी होगी सरकार में निहित..

देहरादून:थाना क्लेमेंनटाउन क्षेत्र में बेशकीमती करोड़ों की संपत्ति जिसका कोई वारिस नहीं उस 3 बीघा ज़मीन के फ़र्जी दस्तावेज तैयार कर एक बार फिर 4 करोड़ 50 लाख की धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर दून पुलिस मुजफ्फरनगर निवासी मास्टरमाइंड मोहम्मद समीर को गिरफ्तार हैं. हालांकि अभी इस धोखाधड़ी में  कांग्रेसी नेता सहित एक दर्जन आरोपी पुलिस की रडार हैं,जल्द ही अन्य जालसाज लोगों पर दून पुलिस शिकंजा कस सकती हैं. फिलहाल पुलिस की गिरफ्त में  आये मुजफ्फरनगर निवासी गैंगस्टर मोहम्मद समीर कामयाब पुत्र मोहम्मद इसराइल को जेल भेज उसके बैंक अकाउंट में जमा 30 लाख की धनराशि को फ्रिज किया गया है.देहरादून SSP दलीप सिंह कुँवर के अनुसार आने वाले दिनों में न सिर्फ गैंगस्टर अभियुक्त मोहम्मद समीर की संपत्ति कुर्क कार्यवाही  सुनिश्चित की जाएगी,बल्कि इस धोखाधड़ी में अन्य लोगों के खिलाफ भी सख्त शिकंजा कसा जाएगा.

बाइट:दलीप सिंह कुँवर,SSP/DIG देहरादून

जाली दस्तावेजों के जरिए 11 करोड़ 50 लाख में सौदा तय.

पुलिस खुलासे के मुताबिक लक्ष्मण झूला निवासी अशोक अग्रवाल ने क्लेमेंन टाउन थाने में तहरीर देकर बताया कि उनके परिचित विजय कुमार गुप्ता एवं राधाबल्लभ गुप्ता को भटनागर एवं वर्मा नाम के व्यक्ति ने क्लेमेंनटाउन से लगते मुख्य सहारनपुर रोड पर एक बेशकीमती जमीन दिखाई थी.इस प्रोपर्टी बिक्री का सौदा 11 करोड़ 50 लाख में तय किया गया. भटनागर और वर्मा ने बिचौलियों की भूमिका निभाकर एडवांस के तौर पर 25 लाख रुपये का बयाना मोहम्मद समीर कामयाब के खाते में ट्रांसफर कराए.जबकि 5 लाख नगद भी दिलवाए. वही डील में रोहित पांडे नाम के व्यक्ति ने ख़रीदारों को बताया कि ये संपत्ति फातिमा बेगम के नाम है और मोहम्मद समीर कामयाब फातिमा का बेटा है.सौदा  तय होने के बाद समीर कामयाब और अन्य लोगों ने खरीदारों को जमीन दिखाई और प्रॉपर्टी का मुआयना करते समय जमीन की रजिस्ट्री के लिए फोटो भी खिंचवाई.वही डील के अनुसार  सभी लोग वकील सहगल के चेंबर में गए जहां प्रॉपर्टी के संबंधित सभी दस्तावेज को सही बताया गया. इसके बाद 14 फरवरी 2023 को रजिस्ट्री टाइप करवाई गई.15 फरवरी 2023 को न सिर्फ समीर कामयाब द्वारा रजिस्ट्री की गई.बल्कि ख़रीदारों ने मोहम्मद समीर कामयाब के खाते में 2 करोड़ 40 और एक करोड़ 85 लाख रुपए कांग्रेस नेता सारस्वत और पांडे को नगद दिए गए. सौदे के मुताबिक बाकी की शेष रकम जमीन कब्जा होने के बाद देनी थी. उधर रजिस्ट्री के उपरांत जब खरीदार जमीन का कब्जा देने की बात जिद्द पर पड़े तो सभी जालसाज लोग इधर-उधर की बातें कर झांसा देते रहे. जिसके कुछ दिन बाद ही पूरे फर्जीवाड़े की सच्चाई सामने आई. पुलिस जांच में पता चला कि जमीन स्वर्गीय डी.के. मित्तल की है. इससे पहले इस प्रॉपर्टी का कोई वारिस ना होने के कारण कई फर्जी पेपर बनाकर बाबर हुमायूं जैसे कई लोग धोखाधड़ी आरोप में लोग जेल जा चुके हैं. पुलिस जांच के अनुसार स्वर्गीय डी.के. मित्तल की पत्नी सुशीला मित्तल की भी कोरोना के कारण 2021 की मौत हो चुकी है.ऐसे में इस पूरी संपत्ति का अब कोई वारिस नहीं है.यही कारण रहा कि उक्त प्रॉपर्टी को षड्यंत्र के तहत कूट रचित दस्तावेज तैयार कर पूर्व में भी कई बार भूमाफियां फर्जी कागज बनाकर  कई लोगों से पैसे ठग धोखाधड़ी कर चुके है. इस बार भी जांच पड़ताल में पता चला कि फर्जी मालिक बनकर मोहम्मद  समीर कामयाब कई ठगों के साथ मिलकर यह खेल खेला. गैंगस्टर मोहम्मद समीर के खिलाफ पहले भी कई धोखाधड़ी से संबंधित मुकदमे दर्ज है. फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले में कांग्रेसी नेता सहित अन्य लोगों के खिलाफ जांच पड़ताल कर आगे की कार्रवाई करने में जुटी है.

यह भी पढ़ें 👉  IDPL को खाली कराने की रणनीति लगभग तैयार,कार्यवाही को लेकर DM का सख़्त रुख,पुलिस ने भी कसी कमर.कभी भी शुरू हो सकता हैं कार्यवाही का अभियान !

बेवारिस प्रोपर्टी सरकार में निहित होगी:SSP

देहरादून SSP/DIG दलीप सिंह कुँवर मुताबिक क्लेमेंन टाउन क्षेत्र में स्वर्गीय डी.के. मित्तल की करोड़ों की बेशकीमती जमीन हैं, जिसका फ़िलहाल तक कोई वारिस नहीं हैं. इसी कारण इससे पहले भी कई भूमाफिया प्रोपर्टी में फर्जीवाड़ा  कर जेल जा चुके हैं.लेकिन अब पुलिस जल्द ही उक्त जमीन प्रॉपर्टी को सरकार में निहित करने की तैयारी कर रही है.एसएसपी के अनुसार इस तरह के फर्जीवाड़े में लिप्त  अभियुक्तों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत संपत्ति जब्त एवं कुर्की की कार्रवाई भी जल्द सुनिश्चित करने जा रही हैं.

यह भी पढ़ें 👉  क्राइम: जब छात्रा की हत्या के बाद, आरोपी खुद पहुंच गया कोर्ट, बोला 'मैंने की लड़की की हत्या,सरेंडर करना चाहता हु..

गिरफ्तार अभियुक्त

मोहम्मद समीर कामयाब पुत्र स्व0 मोहम्मद इसराइल निवासी इंद्रलोक कॉलोनी थाना पटेल नगर, देहरादून
मूल निवासी – ग्राम दधेडू थाना चरथावल जिला मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश, उम्र 43 वर्ष.

यह भी पढ़ें 👉  पुलिस स्मृति दिवस: उत्तराखंड मुख्यमंत्री द्वारा शहीद जवानों को दी गई श्रद्धांजलि...मुख्यमंत्री धामी ने की पुलिस कर्मियों के कल्याण के लिए महत्वपूर्ण घोषणाएं..

आपराधिक इतिहास :

1- मु0अ0स0 783/22 धारा 2/3 गैंगेस्टर अधिनियम थाना पटेल नगर देहरादून
2- मु0अ0स0 151/22 धारा 323/504/506 IPC थाना पटेल नगर देहरादून
3- मु0अ0स0 174/21 धारा 147/148/323/504/506/452/427 IPC थाना सेलाकुई देहरादून
4- मु0अ0स0 346/18 धारा 420/ 467/ 468/ 471/ 506 /120B IPC थाना विकास नगर देहरादून
5- मु0अ0स0 53/23 धारा 420/ 467/ 468/ 471 /120B IPC थाना क्लेमेंट टाउन देहरादून

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें