UKSSSC पेपर लीक 2021 केस जांच क्लोजिंग को ओर,अब इन दो जांच पर STF का पूरा फ़ोकस..

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग 2021 (स्नातक स्तर) परीक्षा घोटाले की जांच अब समाप्ति की ओर नजर आ रही है. इसका सबसे बड़ा कारण मास्टरमाइंड सादिक मूसा और मुख्य अभियुक्तों सहित 41 लोगों की गिरफ्तारी को माना जा रहा है. एसटीएफ ने इस पूरे प्रकरण में पुख्ता सबूत जुटाकर 18 लोगों के खिलाफ चार्जशीट भी कोर्ट में दाखिल कर चुकी दी है. इतना ही नहीं मुख्य अभियुक्तों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत अवैध संपत्ति जब्त करने की कर्यवाही भी प्रचलित है. वहीं दूसरी तरफ वन दरोगा और 2016 ग्राम विकास अधिकारी भर्ती घोटाले की जांच पर STF ने फ़ोकस बढाते हुए कार्यवाही की गति पहले से तेज कर दी है. ऐसे इन दोनों मामलों पर जल्द ही और नए खुलासे हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें 👉  हत्या/डकैती मामलें में बीते 12 साल से फरार चल रहे अभियुक्त को दून पुलिस ने जालंधर से किया गिरफ्तार..अवैध संबंधों के चलते अभियुक्त सहित 05 लोगों ने की थी मसूरी रोड़ पर निर्मम हत्या..अपराधी इस बात को समझ लें कि अपराध कर किसी भी राज्य में छुपे हो,लेकिन सबका जेल जाना तय है :-SSP देहरादून

Uksssc पेपर लीक की जांच क्लोजिंग के साथ दो अन्य जांच पर हमारा फ़ोकस:DGP

UKSSSSC पेपर लीक मामले को लेकर उत्तराखंड  डीजीपी अशोक कुमार   ने भी साफ़तौर पर कहा की वर्तमान समय में स्नातक स्तरीय परीक्षा 2021 मामले की जांच अंतिम चरण यानी लगभग क्लोजिंग की तरफ है. हालांकि, ऑनलाइन वन दारोगा भर्ती और वीडियो/वीपीडीयो भर्ती परीक्षा में हुई धांधली की जांच अभी काफ़ी कुछ करना बाकी हैं, जो जल्द ही नजर आएंगी.

मास्टरमाइंड सहित 41 लोग जेल में बंद

बता दें कि UKSSSC 2021 पेपर लीक प्रकरण में मास्टरमाइंड सय्यद सादिक मूसा और कई मुख्य अभियुक्त की गिरफ्तारी हो चुकी है. उत्तराखंड से लेकर यूपी लखनऊ तक 41 लोगों को गिरफ्तारी हो चुकी है. इसमें लखनऊ प्रिंटिंग प्रेस के मालिक राजेश चौहान सहित उत्तराखंड सचिवालय के दो अपर निजी सचिव, नैनीताल जनपद अदालतों के न्यायिक कर्मी, उधम सिंह नगर के पुलिसकर्मी सहित सबसे ज्यादा चर्चाओं में रहे उत्तरकाशी के हाकम सिंह, केंद्रपाल, मनराल, मनोज जोशी जैसे तमाम अभियुक्तों को एसटीएफ सलाखों के पीछे भेज चुकी है.

यह भी पढ़ें 👉  खतरनाक: आग का विकराल रूप, .एक दुकान भी स्वाहा ,देर रात लगी आग, हल्द्वानी की घटना. वीडियो...

पेपर लीके केस में पहली जमानत भी खारिज़..

वही पेपर लीक गोरखधंधे में अपने पद का दुरुपयोग करने वाले पंतनगर यूनिवर्सिटी के पूर्व AEO दिनेश चंद्र जोशी को भी 80 लाख में पेपर बेचने के आरोप में STF जेल भेज चुकी हैं.गिरफ्तारी के बाद से सलाखों के पीछे बंद दिनेश चंद्र जोशी ने अपने अधिवक्ता चंद्रशेखर तिवारी द्वारा जमानत के लिए देहरादून निचली अदालत में याचिका लगाई गई थी जो खारिज हो चुकी है. अब बचाव पक्ष अधिवक्ता हाई कोर्ट में जमानत याचिका दाखिल करने की तैयारी कर रहे है.

यह भी पढ़ें 👉  कोरोना से जान गवाने वाले मृतक आश्रित को देगी उत्तराखंड सरकार 50 हजार की आर्थिक सहायता.. आपदा मोचन निधि के तहत 30 दिन में मिलेगा मुआवजा

चार्जशीट कोर्ट में दाख़िल.सहित संपत्ति जब्त की कार्यवाही प्रचलित

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग 2021 में हुए स्नातक स्तरीय परीक्षा के पेपर लीक मामले में एसटीएफ की ताबड़तोड़ कार्यवाही पिछले 2 महीने से जारी है. एसटीएफ की टीम ने 41 लोगों की गिरफ्तारी करने के साथ ही 94.79 लाख कैश बरामद किए और 30 लाख का बैंक खाता भी फ्रिज किया है. इसी क्रम में एसटीएफ की टीम ने 18 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल कर दी है.साथ ही, गैंगस्टर एक्ट के तहत 21 आरोपियों पर जुडिशल रिमांड भी ले चुकी है. अवैध संपत्ति ज़ब्त करने की कार्यवाही भी तेजी से हो रही है.

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें