देहरादून: फर्जी रजिस्ट्री घोटालें में शामिल एक और अभियुक्त को दून पुलिस ने सहारनपुर से किया गिरफ्तार..संगठित अपराध और इसमें शामिल सभी को कानून के दायरे में लाकर रहेंगे: एसएसपी देहरादून..

देहरादून: बहुचर्चित फर्जी रजिस्ट्री घोटाले मामलें में एक और अभियुक्त को दून पुलिस ने सहारनपुर से गिरफ्तार किया है.. SIT के अनुसार गिरफ्तार अभियुक्त महेश चन्द्र उर्फ छोटा पण्डित पुत्र स्व- कैलाश चन्द्र इस घोटाले में मास्टरमाइंड कवर पाल सिंह (के.पी.) से मिले मूल विलेखों की हूबहू नकल कर फर्जी बिलेख तैयार करने का काम करता था.अभियुक्त महेश की गिरफ्तारी पूर्व में गिरफ्तार मुख्य आरोपी के.पी.से पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर की गई हैं..SIT के अनुसार पूर्व में गिरफ्तार अभियुक्तों के बयानों/साक्ष्यों के आधार पर प्रकाश में आया कि मूल विलेखों की हूबहू नकल कर फर्जी बिलेख तैयार करने का काम के०पी० द्वारा महेश चन्द उर्फ छोटा पण्डत पुत्र स्व- कैलाश चन्द्र निवासी पुष्पाजली बिहार जनता रोड सहारनपुर (उत्तर प्रदेश) से कराया जाता था.ऐसे में पुलिस टीम द्वारा पतारसी सुरागरसी करते हुए  03 अक्टूबर 2023 को सहारनपुर से अभियुक्त महेश चन्द उर्फ छोटा पण्डित को धारा 420/467/468/471/120बी IPC के तहत गिरफ्तार किया गया. 

यह भी पढ़ें 👉  प्रयागराज में अतीक अहमद हत्याकांड के बाद उत्तराखंड मुख्यमंत्री ने पुलिस को हाई अलर्ट जारी किया,CM से लेकर VIP की सुरक्षा में बढ़ोतरी.

 गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ में फर्जीवाड़े के कई राज आये सामने..

   SIT के मुताबिक गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ में यह बात प्रकाश में आयी कि अभियुक्त महेश चन्द उर्फ छोटा पण्डित वर्ष 2014 तक कंवरपाल सिंह उर्फ के.पी. के यहाँ हल्दी व जड़ी-बूटी के कारोबार में मुशी का काम करता था. के.पी. ने महेश चन्द को बताया कि वह डिस्पयूटेड प्रोपट्री खरीदने बेचने का काम करना चाहता है,जिसमें उसे काफी मुनाफा होने के आसार हैं. इसी काम के लिए के.पी.कई-कई दिन बाहर रहने लगा. के०पी० पुराने खाली कागज व पुराने स्टाम्प मेरठ,दिल्ली से लाना बताकर कुछ लिखे लिखाये बैनामा व अभिलेखों की नकल उन खाली कागजों व स्टाम्पों पर अभियुक्त महेश चन्द उर्फ छोटा पण्डत व स्व० मांगे राम से करवाता था. के.पी. के कहने पर लिखे हुए दस्तावेजों की नकल हूबहू उसी लेख में पुराने स्टाम्प व खाली कागजों पर कर फर्जी विलेख तैयार करते थे.वही के०पी० द्वारा लाये गये लिखे लिखाये दस्तावेज की नकल अपनी नेचुरल लिखावट में न कर हूबहू असली विलेख व बेनामा की लिखावट में उतारी जाती थी.इसके साथ ही पुरानी लिखे कागजों को फाड कर के०पी० जला देता था. अभि० महेश चन्द्र व स्व- मांगे राम द्वारा तैयार किये गये फर्जी कागजों को लेकर देहरादून आता था.इसके बाद अभियुक्त कमल विरमानी व अन्यों के साथ मिलकर फर्जी तैयार किये गये.इसके अतिरिक्त आरोपी अभिलेखों को जिल्द में असली के रूप में चस्पा करा देते थे. अभियुक्त महेश चन्द ने पूछताछ में बताया कि के०पी० द्वारा एक बार अभियुक्त महेश चन्द व स्व० मांगे राम को एक बही जैसा रजिस्टर लाकर दिया, जिसकी हूबहू नकल करने को कहा गया जो नवादा में मित्तल,रायपुर में इन्द्रावती व जाखन में स्वरूप रानी आदि की जमीनों से सम्बन्धित लेख थे.अभि0 महेश चन्द द्वारा के०पी० की बतायी गयी विषय वस्तु लिखकर फर्जी विलेख तैयार किये गये. इन्हें लिखने में करीब एक-डेढ महीना लगा था. इसी प्रकार करीब 4-5 बैनामे देहरादून स्थित भूमि सम्बन्धी तैयार किये गये थे जो नकुड स्थित के.पी. के घर पर रहकर तैयार किये जाते थे..

यह भी पढ़ें 👉  नवनियुक्त देहरादून SSP की अनोखी सीख.. आदेशों की अवहेलना करने पर 02 कोतवालों को किया सुबह से शाम तक पुलिस कार्यालय अटैच... सभी थाना प्रभारियों को एसएसपी की फ़िर से सख़्त चेतावनी..

गिरफ्तार अभियुक्त को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया

अभियुक्त महेश चंद्र से पूछताछ के दौरान धाना कोतवाली नगर पर पंजीकृत मु0अ0सं0 107/23 धारा 420/467/468 471/120बी IPC के अपराध में भी सम्मिलित होना पाया गया.ऐसे में अभियुक्त को न्यायालय के समक्ष पेश न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया..

यह भी पढ़ें 👉  देश में पहली बार उत्तराखंड पुलिस की ये खास पहल, पीड़ित बेझिझक पुलिस को शिकायत करें, इसके लिए होगा अब ये काम

गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ में कई और नाम सामने आए:SIT

बता दें कि फ़र्जी रजिस्ट्री घोटाले प्रकरण में अब तक 12 अभियुक्तों की पुलिस (SIT) गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज चुकी है..SIT के अनुसार सभी अभियुक्तों विस्तृत पूछताछ में कई अन्य लोगों के नाम भी प्रकाश में आये थे.जिनके विरूद्ध विवेचना में साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की जा रही है.

 गिरफ्तार अभियुक्त का नाम पता-

1- महेश चन्द्र उर्फ छोटा पण्डित पुत्र स्व0 कैलाश चन्द्र निवासी पुष्पाजली विहार, जनता रोड सहारनपुर, उम्र 55 वर्ष

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें