PM मुद्रा लोन योजना के नाम पर देशभर में करोडों की धोखाधड़ी करने वाले “साईबर ठग गिरोह” का उत्तराखंड STF ने किया पर्दाफाश..प्रेमनगर इलाकें से गिरोह के 02 सदस्यों को गिरप्तार कर उनके कब्ज़े Cash भारी संख्या में सिम व एटीएम कार्ड सहित मोबाईल फोन और बैंक पासबुक/चैक बुक बरामद..सरगना सहित अन्य की तलाश तेज़. 

गिरोह के सदस्यों ने ज्यादातर दक्षिण भारत के राज्यों तेलांगना, आन्ध्राप्रदेश, महाराष्ट्र के राज्यों के निवासियों के साथ की जा रही थी धोखाधड़ी..

गिरोह के 02 सदस्यों को गिरप्तार कर उनसे से 1,31,100/- रूपये, 64 सिम कार्ड, 11 एटीएम कार्ड, 10 मोबाईल फोन, 02 पासबुक, 07 बैंकों की चैक बुक की गयी बरामद..

गृह मंत्रालय के 14C के विभिन्न वेब पोर्टलों की सूचना पर एसटीएफ ने की बड़ी कार्यवाही..

देहरादून: देशभर में प्रधानमंत्री मुद्रा लोन दिलाने के नाम पर अनगिनत लोगों से बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी करने वाले गैंग का पर्दाफ़ाश कर उत्तराखंड STF ने गिरोह के 02 सदस्यों को गिरफ्तार किया है.देहरादून के थाना प्रेमनगर क्षेत्र से पकड़े गए दोनों अभियुक्तों के कब्जे से एक लाख से अधिक का कैश और भारी मात्रा में एटीएम और सिम कार्ड सहित बैंक पासबुक व चेक बुक सहित कई मोबाइल बरामद किए हैं..STF के अनुसार इस गिरोह के सदस्यों द्वारा ज्यादातर दक्षिण भारत के राज्यों तेलांगना, आंध्र प्रदेश,कर्नाटक और महाराष्ट्र जैसे राज्यों के निवासियों को टारगेट कर उनके धोखाधड़ी की.बता दें कि भारत सरकार गृह मंत्रालय के 14C के विभिन्न वेब पोर्टलों की सूचना व शिकायत के आधार पर ही एसटीएफ ने यह बड़ी कार्यवाही की.

उत्तराखंड STF एसएसपी आयुष अग्रवाल ने जानकारी देते हुये बताया कि एसटीएफ को सूचना मिली थी कि प्रधानमन्त्री मुद्रा लोन योजना के नाम से देश भर में कई राज्यों के लोगों के साथ उन्हे लोन दिलाने के नाम पर ठगी की जा रही हैं. इन सभी ठगी की घटनाओं को लेकर एसटीएफ उत्तराखण्ड द्वारा गृह मंत्रालय के 14C के विभिन्न वेब पोर्टलों का अवलोकन करने पर पाया कि मुद्रा लोन योजना के नाम पर ऑनलाईन ठगी करने वाले कुछ संदिग्ध मोबाईल नम्बर वर्तमान में देहरादून के थाना प्रेमनगर क्षेत्र में काफी समय से सक्रिय हैं.ऐसे में  यह स्पष्ट हो गया कि थाना प्रेमनगर  इलाकें में रहकर कोई साईबर ठगों का गिरोह अलग-अलग मोबाईल नम्बरों से देश भर में कई नागरिकों के साथ साइबर ठगी की घटनाओं को अंजाम दे रहा हैं. इसी जानकारी के आधार STF एसएसपी आयुष अग्रवाल द्वारा अपनी टीम को गहनता से जांच करने और इस गिरोह को चिन्हित करते हुये ठोस कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये. ऐसे में जांच के दौरान अलग-अलग मोबाईल नम्बरों के डेटा का विश्लेषण करने के साथ ही प्रकाश में आये कई संदिग्ध बैंक एकाउंटस के लेन देन का विवरण चैक किया गया तो पाया कि इन संदिग्ध बैंक खातों में देशभर के करीब हर राज्य से अलग अलग लोंगो द्वारा प्रतिदिन 25 से 30 हजार रूपये की किस्तों में लाखों रूपये जमा किये जा रहे हैं. प्रथम दृष्टया प्रकाश में आये संदिग्ध 03बैंक खातों में ही पिछले 02 माह में करीब 1.5 करोड रूपये जमा किये गये और निकाले गये थे.वही जांच में यह भी पता चला कि इन संदिग्ध बैंक खातों में देशभर के लगभग सभी राज्यों से पैसें जमा किये गये थे. विशेषकर भारत के दक्षिणी राज्य तेलंगना, आन्ध्रप्रदेश, महाराष्ट्र कर्नाटक से ज्यादा धनराशि जमा की जानी पायी गयी. इस सम्बन्ध में प्रथम दृष्टया दक्षिण भारत के राज्यों में ऑन लाइन ठगी की घटनाओं का सरसरी विश्लेषण किया गया तो सैकडोंऐसी शिकायतें मिली हैं जिनसे मुद्रा लोन योजना के नाम पर ठगी की जा रही थी. जिनमें से अभी तक हमें 35 शिकायतें तेलंगना, आन्ध्रा और महाराष्ट्र राज्य में दर्ज पायी गयी हैं. इसके अतिरिक्त अभी और भी घटनायें प्रकाश में आयेंगी.STF की जांच में चला कि ठगी की इन घटनाओं में सम्बन्धित गिरोह देहरादून के प्रेमनगर में रहकर यह गिरोह संचालित कर रहे थे.

यह भी पढ़ें 👉  सूडान में फंसे देहरादून निवासी को सकुशल घर लाया गया, परिजनों ने जिलाधिकारी सहित भारत सरकार का किया आभार व्यक्त.अब तक 26 उत्तराखंड वासी "ऑपरेशन कावेरी"से घर लाए गए.

15 दिनों तक STF ने प्रेमनगर में डेरा डालकर गिरोह के बारे सटीक जानकारी एकत्र की..

 एसटीएफ एसएसपी आयुष अग्रवाल के अनुसार इस गिरोह के सम्बन्ध में यह जानकारी तो पुख्ता  हो गयी थी कि यह गिरोह प्रेमनगर क्षेत्र में रह रहा हैं, लेकिन यह गिरोह कहां से संचालित हो रहा है, उसके बारे में जानकारी नहीं हो पा रही थी. क्योंकि इस गिरोह के सदस्यों द्वारा केवल फर्जी सिम को इस्तेमाल किया जा रहा था और उसमें तकनीक का प्रयोग करके अपने लोकेशन को कहीं दूर दिखाया जा रहा था. ऐसे में एसटीएफ टीम को एक सटीक कार्ययोजना बनाकर पिछले 15 दिनों से प्रेमनगर क्षेत्र में ही रहकर इस गिरोह के बारे में जानकारी एकत्रित करने के लिये निर्देश दिये गये. जिसके परिणाम स्वरूप इस गिरोह के दो सदस्यों को थाना प्रेमनगर क्षेत्र से गिरप्तार करने में सफलता प्राप्त हुयी.अभियुक्तों  कब्जे से 1,31,100/- रूपये, 64 सिम कार्ड, 11 एटीएम कार्ड, 10 मोबाईल फोन, 02 पासबुक, 07 बैंकों की चैक बुक बरामद की गयी है. इस गिरोह के अन्य सदस्यों के बारे में एसटीएफ द्वारा अभी भी पतारसी की जा रही है. पकड़े गये अभियुक्तों से पूछताछ में इस गिरोह का सरगना दीपक राज शर्मा पुत्र रामलौट शर्मा निवासी ग्राम विशुनपुर, छोटेपट्टी, जिला सुल्तानपुर,उत्तर प्रदेश है जिसकी तलाश की जा रही है.

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून:फर्जी रजिस्ट्री घोटाला: गिरफ्तार नामी वकील को न्यायिक हिरासत में भेजा जेल ..अभियुक्त ही जमीनों की  रजिस्ट्री की ड्राफ्टिंग तैयार करता था:SIT.. मास्टरमाइंड के०पी० से मिलकर करोडों के वारे-न्यारे..अभी कई गिरफ्तारी बाकी: SSP.

गिरप्तार किये गये अभियुक्तों के नाम-

1-राहुल चौधरी उर्फ राहुल कनौजिया पुत्र जगत नारायाण निवासी ग्राम करहेटा गोसरपुर, तहसील कादीपुर, थाना दोस्तपुर, जिला सुल्तानपुर उत्तर प्रदेश उम्र 30 वर्ष हाल निवासी भागीरथी पुरम प्रेमनगर।

2-सिद्धान्त चौहान उर्फ सिद्ध चौहान पुत्र ओमकार निवासी ग्राम जलूलपुर खेडा, जिला बदांयू हाल निवासी लेन नम्बर-1, 13/7 दशहरा मैदान थाना प्रेमनगर, जनपद देहरादून उम्र-22 वर्ष

पूछताछ खुला ठगी का तरीका..

STF के अनुसार इस गिरोह के मुख्य सदस्य राहुल चौघरी उर्फ राहुल कनौजिया ने पूछताछ में बताया गया कि उसके पास कोई काम धन्धा नहीं था. वह 12 वी पास हैं. वह दीपक राज शर्मा के गांव के बगल के गांव का रहने वाला हैं, वो ही मुझे गांव से देहरादून लाया था. दीपक राज शर्मा यहां देहरादून में पिछले 4-5 सालों से रह रहा है. उसी ने मुझे यह काम बताया था कि कॉल करने लोगों को प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के बारे में यह बताकर कि वह इस योजना कार्यालय का सरकार कर्मचारी है, और फिर उन्हें मुद्रा लोन दिलाने में मदद कर सकता है. फिर उसके बाद मुद्रा लोन को स्वीकृत होना बताना जिसके लिये सरकार से ज्यादा सब्सीडी पाने के लिये कमीशन और प्रोसेसिंग शुल्क के रूप में अपने बताये गये बैंक खातों में स्वीकृत कराये गये.लोन के मुताबिक 05 से 10 प्रतिशत धनराशि को जमा करा दिया जाता है, जिसके लिये सभी खाते एवं प्रयोग किये जाने वाले मोबाईल नम्बर फर्जी प्रयोग किये जाते हैं. इस पूरे गैंग को दीपक राज शर्मा संचालित कर रहा था उसके दक्षिण भारत के राज्यों के लोगों से मुद्रा लोन योजना के नाम धोखाधड़ी करने के लिये 4-5 लडके आन्ध्र प्रदेश आदि राज्यों के रखे हुये थे. इसके लिये सभी खाते फर्जी खोले गये थे और फर्जी मोबाइल नम्बर भी इन खातों से जुडे हुये हैं. जैसे ही पैसे जमा होता मैसेज मिलते ही तत्काल एटीएम से पैसों को निकाल दिया जाता था. ठगी के लिये इस्तेमाल किये जाने वाले सारे सिम कार्डस फर्जी आईडी पे लिये जाते हैं जिन्हे प्रति सिम 1000/- रूपये में खरीदता है. 3-4 महीने बाद उन खातों के एटीएम को एवं प्रयोग किये गये मोबाईल सिम को तोडकर फेंक देते हैं. सारे गिरोह का मास्टर माईन्ड दीपक राज शर्मा है ठगी पैसों से ही सुद्धोवाला में एक जमीन खरीदकर उस पर अपना हॉस्टल बना रहा है.और ठाकुरपुर में नित्या रेडिमेड गार्मेंट नाम से दुकान भी खोल रखी है. सभी सदस्य प्रत्येक सप्ताह में करीब 5 से 6 लाख की ठगी कर लेते हैं.

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड पुलिस कांस्टेबल के 1521 पदों की भर्ती का परिणाम जारी..

STF ने इस ठगी के सम्बन्ध में साईबर थाना देहरादून पर धारा-420/467/468/471/201/34 भादवि व 66 डी आईटी एक्ट का अपराध पंजीकृत किया गया है.वही इस घटना के अनावरण में पुलिस उपाधीक्षक अंकुश मिश्रा एवं गृह मंत्रालय के आई4सी के सीईयो डॉ राजेश कुमार एवं उनकी टीम की मुख्य भूमिका रही है.

बरामदगी

1,31,100/- रूपये, 64 सिम कार्ड, 11 एटीएम कार्ड, 10 मोबाईल फोन, 02 पासबुक, 07 बैंकों की चैक बुक..

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें