कबूतरबाजी में STF का शिकंजा: विदेश में नौकरी का झांसा देकर 10 लाख हड़प फर्जी वीजा-टिकट थमाया,उत्तराखंड से लेकर मध्यप्रदेश तक कबूतरबाजी का जाल,आरोपी पंजाब से गिरफ्तार..

देहरादून: विदेशों में नौकरी का झांसा देकर 10 लाख रुपए हड़पने वाले एक कबूतरबाज को उत्तराखंड एसटीएफ ने पंजाब के मोहाली से गिरफ्तार किया है.एसटीएफ की गिरफ्त में आया अभियुक्त मोनू सागर पुत्र सुरेश मूल रूप से उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद खंडुवा का रहने वाला है.गिरफ्त में आए अभियुक्त ने उत्तराखंड में 07 ,मध्यप्रदेश(भोपाल)में 01, राजस्थान (जयपुर)में 01 और उत्तर प्रदेश (प्रयागराज) में 01 युवक युवतीयों को मिडल ईस्ट कंट्री (बहरीन व माल्टा) में मोटी सैलरी वाली नौकरी का लालच देकर पहले लाखों रुपए ठगे,फिर उन्हें फर्जी वीजा और टिकट थमा धोखाधड़ी को अंजाम दिया.एसटीएफ के अनुसार गिरफ्तार कबूतरबाज के जाल में इन 10 पीड़ितों के अलावा भी कई अन्य राज्यों के युवक-युवतियो भी पीड़ित हो सकते हैं.इसकी जांच पड़ताल जारी है.

दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचने के बाद पीड़ितों पता चला ठगी जाल

यह भी पढ़ें 👉  आदतन अपराधियों के खिलाफ दून पुलिस की बड़ी कार्यवाही..भूमाफियांगिरी , हत्या,लूट जैसे संगीन आपराधिक गतिविधियों में लिप्त 05 बदमाशों के विरूद्ध गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर प्रभावी शिकंजा..

उत्तराखंड STF एसएसपी आयुष अग्रवाल के मुताबिक विगत् दिनो में कुछ युवकों द्वारा शिकायत की गई थी कि मोनू सागर नाम के एक युवक ने उन्हे मीडिल ईस्ट के बहरीन व माल्टा देश स्थित होटल में अच्छी खासी सैलरी में नौकरी दिलाने का लालच दिलाया.तय बातचीत के अनुसार बहरीन व माल्टा देश का वीजा और टिकट दिलाने का भरोसा देते हुए एकमुश्त धनराशि जमा करने की बात कही.इसके बाद कबूतरबाज मोनू सागर के जाल में फंसे 10 युवक युवतियों ने अलग-अलग समय पर उसको UPI के माध्यम से कुल 9,24,500 रूपये दिए.रकम वसूलने के एवज में मोनू सागर ने  युवक-युवतियों को फर्जी वीजा और ईमीग्रेशन एपाईन्टमेन्ट का लेटर सहित टिकट भी दे दिया. इसके उपरांत जब सुनील राणा और बिमला सलदाना टिकट व वीजा सहित अपने पेपर लेकर दिल्ली स्थित अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पहुंचे तो ईमीग्रेशन डिपार्टमेन्ट ने उनके टिकट और बीजा को फर्जी बताया.ऐसे में जब अपने साथ धोखेबाजी का एहसास हुआ तो सुनील और विमला ने मोनू सागर को लगातार मोबाइल से संपर्क किया,लेकिन मोनू का नम्बर ही नहीं मिला.इतना ही नहीं इसके बाद एक के बाद एक अन्य पीड़ित युवक युवतियों ने भी मोनू सागर से बार-बार संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन उसका फोन स्विच ऑफ रहा. 

यह भी पढ़ें 👉  शर्मनाक: मंदिर में पूजा अर्चना करने आयी नाबालिक किशोरी के साथ छेड़छाड़,आरोपी पुजारी को पुलिस ने किया गिरफ्तार..

WPS App की मदद से तैयार फर्जी वीज़ा और टिकट:आरोपी

STF के अनुसार कबूतरबाज मोनू सागर ने पूछताछ में बताया कि  उसने अपने ही टिकट और वीजा को WPS मोबाईल एप्प की सहायता से एडिट करके जाल में फंसे पीड़तों को व्हाट्सअप के माध्यम से उपलब्ध कराये थे.

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड रणजी ट्रॉफी सेलेक्शन के नाम पर एक फिर बार धोखाधड़ी, 8 लाख ठगने वाले के खिलाफ मुकदमा दर्ज..

पीड़ितों से ठगे 9 लाख रुपये जुएं में हारा:आरोपी

 STF की पूछताछ में गिरफ्तार अभियुक्त मोनू सागर ने यह भी बताया कि उनसे विदेश में नौकरी नाम पर जो रक़म शिक़ायतकर्ताओं से वसूली थी उसमें से लगभग 09 लाख रूपये वह आनॅलाईन जुआ (rummy circle) में हार गया है.STF के अनुसार पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म स्वीकार किया. अभी तक इस कबूतरबाजी प्रकरण में उत्तराखंड से लेकर मध्य प्रदेश तक 10 पीड़ित युवक-युवतियों के नाम सामने आए है. हालांकि इसकी संख्या अभी और अधिक बढ़ सकती है. मामले में थाना डालनवाला में मुकदमा दर्ज कर जांच पड़ताल विवेचना जारी है. फिलहाल अभियुक्त मोनू सागर को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है.

गिरफ्तार अभियुक्त का नाम-पता

 मोनू सागर पुत्र सुरेश निवासी खंडुवा,मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश.

विसुअल आरोपी

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें