भूमाफियाओं का आतंक..फ़र्जी दस्तावेजों के आधार पर यूपी के प्रतिष्ठित व्यापारी की भूमि बेच करोडों की धोखाधड़ी..सीनियर आर्किटेक्ट सहित 03 अभियुक्तों को दून पुलिस ने किया गिरफ्तार…फ़रार 02 ठगों की तलाश जारी..

 

एसएसपी देहरादून की सटीक रणनीति से शिकंजे में आये White Collar Criminal’s..

देहरादून: उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में प्रॉपर्टी खरीद-फरोख्त को लेकर धोखाधड़ी का अपराध  लंबे समय से चरम पर हैं..आये दिन कूट रचित तरीक़े से फ़र्जी दस्तावेज  तैयार कर जमीन बेचने के नाम करोड़ों रुपये ठगने का सिलसिला बदस्तूर जारी हैं.. ताजा मामला थाना राजपुर क्षेत्र के धौरण खास से सामने आया है.यहां उत्तर प्रदेश के भदौरी निवासी एक प्रतिष्ठित कपड़ा व्यापारी की जमीन के फर्जी दस्तावेज तैयार कर कुछ White Collar Criminal’s..द्वारा देहरादून निवासी व्यक्ति को जमीन बेचने के नाम पर 2 करोड़ 80 लाख रुपये ठग लिये..पुलिस ने इस मामलें में शिकायत के आधार पर कार्रवाई करते हुए धोखाधड़ी में शामिल एक सीनियर आर्किटेक्ट सहित तीन अभियुक्त को गिरफ्तार किया है..पुलिस जांच पड़ताल अनुसार गिरफ्तार अभियुक्तों द्वारा उत्तर प्रदेश भदोही निवासी व्यापारी के नाम से एक फर्जी व्यक्ति को सामने रख देहरादून निवासी व्यक्ति को जमीन बेचने के नाम पर करोड़ों हड़प ये ठगी की गई.. धोखाधड़ी का मामला तब उजागर हुआ जब खरीदार व्यक्ति जमीन पर कब्जे लेने गया. पुलिस के अनुसार अभी इस मामले में दो अन्य अभियुक्त फरार चल रहे हैं,जिनकी तलाश जारी है.जबकि गिरफ्तार अभियुक्त राजीव कुमार के खिलाफ इससे पहले भी थाना राजपुर में दो मुकदमें दर्ज हैं..

थाना राजपुर पुलिस के अनुसार 10 जून 2024 को शिकायतकर्ता (वादी) राकेश बत्ता निवासी 19 महंत रोड लक्ष्मण चौक देहरादून ने तहरीर देकर बताया कि गिरीश कोटियाल, दिनेश कुमार अग्रवाल (वरिष्ठ आर्किटेक्ट) व राजीव कुमार नाम के व्यक्ति ने उन्हें राजपुर रोड स्थित एक प्लॉट (677.25 वर्ग मी0 मौजा धौरण खास) में दिखाया.प्लाट की कीमत लगभग 5 करोड़ रुपये थी.ठगी करने वालों ने बताया कि जमीन अरशद कय्यूम नाम के व्यक्ति की है जो उनका जानने वाला है.ऐसे में प्लाट का सौदा होते ही वे उससे बात करके उक्त प्लाट की रजिस्ट्री वादी के नाम पर करवा देंगे.इसके पश्चात उक्त तीनों व्यक्तियों ने वादी की अरशद क्य्यूम नाम के व्यक्ति से मुलाकात कराई.प्लाट खरीद की बात तय होते ही अभियुक्तों द्वारा कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर वादी को धोखा देकर उससे एक एग्रीमेंट (इकरारनामा) बनाया गया और अरशद कय्यूम के नाम पर 55 लाख रुपये खाते में और 25 लाख नकद ले लिये.लेकिन जब वादी राकेश बत्ता उक्त प्लॉट में कब्जा लेने पहुंचा तो वहां पर जमीन के असली मालिक अरशद कय्यूम नाम का व्यक्ति मौजूद मिले.अरशद ने अपनी प्रॉपर्टी के पेपर दिखाते हुए उक्त प्रॉपर्टी को अपना बताया.बस यही पर वादी को अपने साथ हुई धोखाधड़ी की जानकारी हुई.इसके बाद वादी की तहरीर के आधार पर थाना राजपुर में  धारा 419/420/467/468/471/120बी IPC के तहत मुक़दमा दर्ज  विवेचना प्रारम्भ की गयी..पुलिस  विवेचना के दौरान प्रकाश में आया कि गिरीश कोठियाल,दिनेश अग्रवाल,राजीव कुमार,इमाम एवं फर्जी अरशद क्य्यूम द्वारा संगठित रुप से षड़यन्त्र के तहत इस आपराधिक घटना को अंजाम दिया गया.जांच में यह भी पता चला कि प्लाट बेचने के नाम अभियुक्तों ने ठगी कर वादी राकेश बत्ता से 2 करोड़ के चैक और 80 लाख रुपये नकद प्राप्त कर लिये गये हैं. ऐसे में साक्ष्यों के आधार पर थाना राजपुर पुलिस द्वारा अभियुक्त गिरीश कोठियाल एवं दिनेश अग्रवाल को  राजपुर क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया.जबकि मुक़दमें में नाम जद एक अन्य अभियुक्त राजीव कुमार, जो वांटेड चल रहा था,उसे भी पटेलनगर THDC कालोनी देहराखास से गिरफ्तार किया गया..थाना राजपुर प्रभारी पीडी भट्ट के अनुसार अभी इस मुकदमें में वांछित अभियुक्त इमाम और फर्जी अरशद कय्यूम फ़रार चल रहे हैं. दोनों अभियुक्तों की गिरफ्तारी को लेकर एसएसपी देहरादून के निर्देशों पर टीमें गठित कर धरपकड़ के लिए रवाना की गयी हैं..

यह भी पढ़ें 👉  नशा तस्करों पर दून पुलिस का एक और कड़ा प्रहार..मादक पदार्थो की बड़ी खेप के साथ 03 ड्रग्स पेड़लरों को अलग-अलग थाना क्षेत्रों से किया गिरफ्तार..

 

Oplus_131072

 जमीन के फर्जी मालिक को हरिद्वार भगवानपुर से लाया गया.. 

 पुलिस के अनुसार गिरफ्तार अभियुक्तों ने पूछताछ में बताया गया कि राजपुर धोरण खास में उन्हें एक बेशकीमती भूमि की जानकारी मिली थी.जमीन जो भदोही उत्तर प्रदेश निवासी अरशद कय्यूम के नाम पर थी.जमीन की कीमत लगभग 5 करोड़ रुपये थी.ऐसे में उक्त जमीन को बेचकर मोटी कमाई करने के मंशा से अभियुक्तों द्वारा उस प्रॉपर्टी के असली वारिस अरशद कय्यूम के नाम के अन्य व्यक्ति की तलाश की. अभियुक्त दिनेश अग्रवाल के पास एक इमाम नाम का व्यक्ति रहता था जो अपने को सिकरोड़ा भगवानपुर का निवासी बताता था. इमाम ने बताया कि अरशद कय्यूम नाम का व्यक्ति भगवानपुर में रहता है.जिससे वह उन लोगों की बात करवा सकता हैं.  उसके बाद सभी अभियुक्त दिनेश अग्रवाल के घर पर मिले और पूरी योजना बनाकर फर्जी अरशद कय्यूम को प्लान से अवगत कराया. इसके पश्चात सभी अभियुक्तों ने फर्जी अरशद कय्यूम की मुलाकात द्रोण होटल में वादी राकेश बत्ता से कराई.जहां वादी को यकीन दिलाया की यही असली अरशद कय्यूम है. फिर अभियुक्तों द्वारा उस प्रॉपर्टी की डील वादी से करते हुए उसके एवज में वादी से 80 लाख रुपये नगद और दो करोड के बैंक चैक लिये गये थे.इसके साथ ही शेष पैसा रजिस्ट्री के दिन देने की बात तय हुई..

यह भी पढ़ें 👉  नृशंस हत्याकांड का हरिद्वार पुलिस ने किया 36 घंटे में खुलासा,जमीनी विवाद बना हत्या की वजह..

गिरफ्तार अभियुक्त’

1- गिरीश कोठियाल पुत्र स्वर्गीय चंद्रमणि निवासी हरीपुर नवादा थाना नेहरू कॉलोनी, देहरादून, उम्र 43 वर्ष..

2- दिनेश अग्रवाल पुत्र जयराम अग्रवाल निवासी रेस कोर्स थाना कोतवाली, देहरादून, उम्र 67 वर्ष.

यह भी पढ़ें 👉  मसूरी में पुलिस टीम पर हुए जानलेवा हमले की घटना में प्रथम दृष्टया लापरवाही परिलक्षित होने पर SSP देहरादून ने 02 चौकी प्रभारियों को किया निलंबित..

3- राजीव कुमार पुत्र दाताराम निवासी ग्राम रावटी थाना हीमपुर जनपद बिजनौर, उत्तर प्रदेश, उम्र 52 वर्ष..

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें