उत्तराखंड DGP अशोक कुमार की बहुचर्चित “साइबर एनकाउंटर्स” पुस्तक पर गवर्नर हाउस में परिचर्चा कार्यक्रम,गवर्नर बोले साइबर सुरक्षा क्षेत्र में जागरूक करने वाली है ये पुस्तक..

देहरादून:उत्तराखंड पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार द्वारा लिखी गई बहुचर्चित “साइबर एनकाउंटर्स” पुस्तक को लेकर रविवार (25 जून 2023) को उत्तराखंड राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से. नि.) राजभवन में परिचर्चा कार्यक्रम आयोजित किया गया. इस दौरान पुस्तक के लेखक डीजीपी अशोक कुमार,सहलेखक ओ. पी. मनोचा के साथ ही अभिनव पाण्डे और पूजा मारवाह के संचालन में वर्तमान परिदृश्य में साइबर अपराधों की बढ़ती चुनौतियों के साथ ही पुस्तक के विभिन्न पहलुओं और वर्तमान में इसकी उपयोगिता के संबन्ध में महत्वपूर्ण चर्चा की. जनहित से जुड़े इस कार्यक्रम दौरान ‘साइबर एनकाउंटर्स”दोनों लेखकों ने देश-दुनिया में तेजी से फैल रहे साइबर सुरक्षा से सम्बन्धित लोगों के विभिन्न प्रश्नों के उत्तर दिए.

इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि यह पुस्तक वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए बेहद महत्वपूर्ण विषय पर लिखी गई है. इसके द्वारा साइबर अपराध से बचने में पाठकों को मदद मिलेगी. उन्होंने विश्वास जताया कि ’’साइबर एनकाउंटर्स’’ पुस्तक साइबर अपराधों की रोकथाम की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी. राज्यपाल ने कहा कि साइबर अपराध वर्तमान समय में हम सब के सामने एक बड़ी चुनौती है और इसमें निरंतर कई लोग साइबर ठगी का शिकार बन रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमें तकनीकी एवं इंटरनेट का इस्तेमाल सजगता के साथ करना चाहिए। उन्होंने कहा कि संसाधनों के विकास के साथ-साथ उनके खतरों के प्रति भी सचेत रहने की जरुरत है.

यह भी पढ़ें 👉  दून पुलिस को मिली बड़ी सफलता:ATM काट लाखों रुपये लूटने वाले अन्तर्राज्यीय हामिद गैंग का पर्दाफ़ाश,महिला सहित तीन अभियुक्त हरियाणा(मेवात)से गिरफ्तार,लाखों की नकदी सहित ATM काटने का उपकरण बरामद,02 वांटेड अपराधियों की तलाश तेज़..

उत्तराखंड राज्यपाल ने कहा कि हमारे विभिन्न तंत्र साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में गहनता से कार्य कर रहे हैं. हमारी पुलिस प्रणाली का कार्य बहुत चुनौतीपूर्ण है. पुलिस बल भौतिक और वर्चुअल चुनौतियों से निपटने के लिए सदैव कार्यशील रहते है. उन्होंने कहा कि हमारी पुलिस हर प्रकार के अपराध से निपटने के लिए पूर्णतः सक्षम है और वह सराहनीय कार्य कर रही है. साइबर अपराध से निपटना केवल पुलिस और कानून की ही जिम्मेदारी नहीं है, बल्कि इसके लिए हर एक नागरिक की जागरूकता और सामूहिक प्रयास बहुत जरूरी हैं. उन्होंने कहा कि बुनियादी ढ़ांचें और अपनी प्रौद्योगिकी को उन्नत बनाने के साथ-साथ हर स्तर पर प्रशिक्षण से सजगता और जागरूकता लाए जाने की जरूरत है  स्कूल और कॉलेजों के साथ मिलकर शिक्षा में साइबर सुरक्षा के प्रति बच्चों को बताया जाना आवश्यक है.

यह भी पढ़ें 👉  पहल: पुलिस विभाग की पहल हर्षिल में लगेगा विकास मेला । सीमांत क्षेत्रों में पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच बेहतर हो तालमेल..

   राज्यपाल ने कहा कि इस पुस्तक के माध्यम से साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में जागरूकता लाने के लिए अच्छा प्रयास किया गया है इसके लिए उन्होंने पुलिस महानिदेशक  अशोक कुमार और उनके सहयोगी  ओ. पी मनोचा के प्रयासों की सराहना की. उन्होंने कहा कि प्रयास किया जाय कि इस पुस्तक को अधिक से अधिक लोग पढ़ें और साइबर सुरक्षा के प्रति जागरूक रहें. 

यह भी पढ़ें 👉  NDPS अदालत से नशा तस्कर को 14 साल की कठोर सजा..

 वही इस बहुचर्चित पुस्तक के लेखक पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने साइबर अपराध से जुड़ी अनेक घटनाओं की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि साइबर अपराध से बचाव के लिए हमें किस प्रकार सतर्क रहना चाहिए. साइबर अपराध और उससे पार पाने के लिए हमारे सामने क्या चुनौतियां हैं, इसकी भी उन्होंने जानकारी दी. इस अवसर पर विभिन्न स्कूल/कॉलेजों के छात्र-छात्राओं के अलावा अनेक गणमान्य लोग इस पुस्तक परिचर्चा में उपस्थित रहे.

खबर सनसनी डेस्क

उत्तराखण्ड की ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहिए खबर सनसनी के संग। www.khabarsansani.com

सम्बंधित खबरें